Google ने प्ले स्टोर से अब इस पॉपुलर ऐप को किया डिलीट, लोगों की सुनती थी प्राइवेट बातें

नई दिल्ली: अगर आपको पता चले कि आपके फोन में आपकी मैसेजिंग ऐप आपकी प्राइवेट बातें सुन रही है, तो आप तुरंत अपने फोन से उस ऐप को डिलीट कर देंगे। इसी तरह दुनिया के सबसे बड़े सर्च इंजन गूगल ने पॉपुलर मैसेजिंग ऐप टूटॉक (ToTok) को एक बार फिर प्ले स्टोर से हटा दिया है। यह दावा किया जा रहा था कि इसका इस्तेमाल संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) सरकार द्वारा व्यापक निगरानी के लिए किया जा रहा है। ऐप को इससे पहले दिसंबर में ऐपल के ऐप स्टोर और गूगल के प्ले स्टोर से हटाया गया था।

मीडिया रिपोर्ट रिपोर्ट में शुक्रवार को बताया गया कि जिन लोगों ने यह ऐप इंस्टॉल कर रखा है, उनका डेटा सुरक्षित नहीं हैं, क्योंकि UAE द्वारा कथित तौर पर टूटॉक का इस्तेमाल हर प्रकार की गतिविधि पर नजर रखने के लिए किया जा रहा है। इसमें लोगों की आपसी बातचीत से लेकर उनकी हर एक्टिविटी जैसे आपसी रिश्ते, लोग कहां जा रहे हैं और क्या कर रहे हैं, जैसी व्यक्तिगत चीजों पर निगरानी रखी जा रही है। इसके अलावा लोगों की भेजी जाने वाली फोटो और बाकी कंटेंट पर भी नजर रखी जा रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper