Haldiram’s के खाने में मिली ‘मरी हुई छिपकली’, FDA ने बंद किया आउटलेट

मुंबई: नागपुर में खाद्य पदार्थों की दिग्गज कंपनी हल्दीराम के एक आउटलेट पर एक व्यक्ति के खाने में कथित तौर पर मरी हुई छिपकली मिली। ‘वड़ा सांभर’ में मरी हुई छिपकली की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है। खाद्य एवं औषधि प्रशासन (FDA) के एक अधिकारी ने यह जानकारी दी। यह घटना मंगलवार सुबह अजानी चौराहा स्थित आउटलेट में हुई। ‘वड़ा सांभर में मिली मृत छिपकली की तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो गई।

एफडीए (नागपुर) के सहायक आयुक्त मिलिंद देशपांडे ने बताया, ‘वर्धा से एक व्यक्ति एवं उसके साथ आई एक महिला ने वड़ा सांभर का ऑर्डर दिया। लेकिन खाते वक्त व्यक्ति को खाने में मरी हुई छिपकली मिली। उन्होंने इसकी जानकारी आउटलेट के सुपरवाइजर को दी जिसने बाद में उसे फेंक दिया।’ उन्होंने बताया, ‘दोनों को बाद में एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया और बुधवार को उन्हें छुट्टी दी गई।’ हालांकि दोनों ने इस बारे में न मीडिया से बात की और न ही कोई शिकायत दर्ज कराई।

देशपांडे ने कहा, ‘एफडीए को शाम को इस बारे में सूचना दी गयी जिसके बाद हम तत्काल हल्दीराम के आउटलेट पर गये और निरीक्षण किया। हमें रसोई में कुछ गड़बड़ी मिली। रसोई की खिड़की पर जाली नहीं थी।’ देशपांडे ने बताया कि एफडीए ने तब तक के लिए उस आउटलेट को बंद कर दिया है जब तक कि वे खाद्य सुरक्षा एवं मानक नियमन 2011 का अनुपालन नहीं करते। हल्दीराम के एक वरिष्ठ अधिकारी से इस बारे में संपर्क करने पर उन्होंने कहा कि उन्हें ग्राहक के दावे पर संदेह है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper