बस ऐसे करें चरित्रहीन महिला की पहचान

सबसे पहले तो हम ये बताना चाहेंगे कि ये खबर महिलाओ की भावनाओ को चोट पहुँचाने के लिए नहीं बल्कि उन लोगो के लिए है जो कि ज्योतिष पर विशवास करतें हैं ज्योति शास्त्र कि शाखा समुद्र शास्त्र के अनुसार मनुष्य के चल चरण, शरीर पर स्थित चिन्ह शरीर के लक्षणों के आधार पर उनके स्वाभाव के बारे में कहा जाता है |

चरित्रहीन महिलाओ कि पहचान के यूँ तो बहुत से तरीके बताए गए है है लेकिन उन्हें जानकर हमें पूरी जानकारी नहीं मिल पाती इसलिए आज हम लेकर आये है कुछ ऐसे लक्षण जिससे आप एक चरित्रहीन महिला कि पहचान आसानी से कर सकते हैं |

कहा जाता है कि महिला के शरीर को देखकर उसके बारे में पता लगाया जा सकता है जैसे उनकी दांतों कि बनावट, आँखें, नाक, कान इस तरह बहुत आसानी से शरीर के हिस्से देखकर पता चल जाएगा कि वह अपने ससुराल वालो के लिए केसी होगी |

बयाता जाता है जिस महिला के पैर कि कनिष्ठ ऊँगली या उसके साथ वाली ऊँगली जमीन को नहीं छूती या फिर अंगूठे के साथ वाली ऊँगली बहुत ज़्यादा लम्बी हो तो वह महिला स्थिति के अनुसार चरित्र बदल लेतीं हैं |

गुस्से वाली महिला

यदि कोई महिला बात-बात पर गुस्सा होती है तो उन महिलाओ पर भी विशवास नहीं किया जा सकता |

पैरो को देखिये जिन महिलाओ के पैर का पिछला भाग काफी मोटा और उठा हुआ होता है उस भाग कि नसे उभरी हुई होती हैं तो ऐसी महिलाए घर के लिए शुभ नहीं होती |

पेट देखिये

यदि महिला का पेट घड़े जैसा होता है तो वह ता उम्र गरीबी और दरिद्रता के हालातो से गुज़रती है पेट का लम्बा और गड्ढेदार होना भी अशुभ माना जाता है |

यदि महिला लम्बी है और उसके होंटो के उपरी हिस्से पर बाल है वह पति के लिए अशुभ मानी जाती है |

कानो का आकार

ऐसी स्त्रिया जिनके कानो में अधिक बाल होतें है तो ऐसी स्त्रियां घर में कलेश का कारण बनती है |

चौड़े दात

यदि महिला के दात चौड़े और मोटे है और मुख से बाहर निकलते हुए दिखतें हैं तो ऐसी महिला का जीवन दुखो से भरा रहेगा यही नहीं स्त्रियों के मसूड़े काले होना भी दुर्भाग्य कि निशानी है |

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper