ISI के हनीट्रैप में फंसा भारतीय सेना का जवान, जैसलमेर सीमा से गिरफ्तार

जयपुर: दुश्मन देश पाकिस्तान की गुप्तचर संस्था आईएसआई की महिला एजेंट के हुस्न में फंसाकर भारतीय सेना के एक जवान ने देश के साथ गद्दारी कर बैठा। उक्त जवान को जैसलमेर से गिरफ्तार किया गया है। भारतीय सेना का एक जवान हनीट्रैप में फंस गया। गिरफ्तार सेना के जवान पर सोशल साइट्स के जरिए गोपनीय सूचनाएं पाकिस्तान भेजने का आरोप है। इंटलीजेंस पुलिस ने जवान से पूछताछ शुरू कर दी है। डीआईजी इंटलीजेंस उमेश मिश्रा ने जवान की गिरफ्तारी की पुष्टि की है।

मामले के अनुसार जैसलमेर में तैनात इंडियन आर्मी के जवान सोमबीर की पिछले काफी समय से गतिविधियां संदिग्ध लग रही थी। राजस्थान की विशेष शाखा व आर्मी इंटेलीजेंस को सोमबीर के बारे में सोशल मीडिया के जरिए सीमा पार गोपनीय सूचनाएं भेजने की सूचना मिलने इस पर निगरानी बढ़ा दी गयी थी। वर्ष 2016 में सेना में भर्ती हुआ जवान सोमबीर लगातार पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की महिला एजेन्ट के सम्पर्क में है। सोमबीर महिला एजेंट के हनीट्रेप में फंसकर फेसबुक-वाट्सअप के जरिये सेना की गोपनीय जानकारी सीमा पार भिजवा रहा था।

जवान सोमबीर को शुक्रवार सुबह सेना द्वारा इंटेलीजेंस पुलिस को हैंडओवर करने के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया और उसे गहन पूछताछ के लिए शुक्रवार शाम को जयपुर ले जाया गया है। जहां पर उससे सेंट्रल इन्वेस्टीगेशन सेंटर में गहन में पूछताछ की जा रही है। आरोप है कि जवान सोमबीर अपने प्रशिक्षल काल में ही उक्त महिला एजेन्ट के संपर्क में आ गया था। दोनों के बीच फेसबुक-वाट्सअप के जरिए बातचीत होती थी। जैसलमेर तैनाती के दौरान महिला ने उसे हनीट्रेप में फंसा कर उससे सेना की गई गोपनीय जानकारी हासिल की। सोमबीर को पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी धनराशि दिए जाने की भी आशंका है।

जैसा की इसके नाम से ही जाहिर हो रहा है कि हनी मतलब शहद और ट्रैप यानि जाल। खुफिया एजेंसियों की खूबसूरत महिलाएं सूचनाएं हासिल करने के लिए अक्सर इस तरीके का इस्तेमाल करती हैं। पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई की महिला एजेंट भारतीय वायुसेना के अरुण मारवाह समेत कई अफसरों व जवानों को हनीट्रैप में फंसा चुकी हैं।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...

लखनऊ ट्रिब्यून

Vineet Kumar Verma

E-Paper