जबलपुर निर्माणाधीन बिल्डिंग हादसा: मृतकों के परिजनों को चार-चार की सहायता

जबलपुर। जबलपुर जिला मुख्यालय स्थित बरगी हिल्स के समीप सोमवार को दोपहर के समय एक निर्माणाधीन बहुमंजिला भवन की छत गिर गई थी। इस घटना में दो लोगों की मौत हो गई थी, जबकि 20 लोग घायल हुए थे। जिला प्रशासन ने हादसे में मरने वाले व्यक्तियों के परिजनों को 4-4 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है, जबकि घायलों का जिला अस्पताल में नि:शुल्क उपचार किया जा रहा है।

सोमवार दोपहर के समय हुए हादसे के बाद घटना की सूचना प्राप्त होते ही कलेक्टर छवि भारद्वाज एवं प्रभारी पुलिस अधीक्षक कुमार सौरभ मौके पर पहुंच गये थे। अपर कलेक्टर छोटे सिंह के नेतृत्व में राहत एवं बचाव कार्य शुरू कर दिया गया था। इस हादसे में दो मजदूरों की मौके पर ही मौत हो गई थी, जबकि बीस मजदूर घायल हो गये थे। घायलों को नेताजी सुभाषचन्द्र बोस मेडिकल कॉलेज में उपचार हेतु भर्ती कराया गया था। इनमें से आठ व्यक्तियों का उपचार अब भी चल रहा है और बाकी को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई।

घटना की जानकारी मिलने पर सोमवार को देर शाम चिकित्सा शिक्षा तथा लोक स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण राज्य मंत्री शरद जैन, महापौर स्वाति गोडबोले, पूर्व मंत्री हरेन्द्रजीत सिंह बब्बू ने भी मौके पर पहुंचकर चल रहे राहत एवं बचाव कार्य का जायजा लिया तथा अधिकारियों से घटना के बारे में जानकारी प्राप्त की। राज्य मंत्री शरद जैन पूर्व मंत्री हरेन्द्रजीत सिंह बब्बू के साथ मेडिकल कॉलेज भी गये और उपचार के लिए यहां भर्ती घायलों से भेंट की। जैन ने इस मौके पर मेडिकल कॉलेज के चिकित्सकों से भी घायलों के चल रहे उपचार के बारे में पूछताछ की। उन्होंने इलाज में कोई कसर बाकी नहीं रखने के निर्देश चिकित्सकों को देते हुए कहा कि घायलों का पूरा इलाज शासन के खर्च पर होगा।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper