KGMU में योगी ने किया शारदालय मंदिर का लोकार्पण

लखनऊ: उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शनिवार को राजधानी लखनऊ के किंग जॉर्ज चिकित्सा विश्वविद्यालय में मां शारदालय मंदिर का लोकार्पण और दर्शन किया और भूजल के गिरते स्तर पर चिंता जाहिर की। विश्वविद्यालय के कन्वेंशन सेंटर में लोगों को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री योगी ने केजीएमयू परिवार को मां सरस्वती व आरोग्य के देवता धन्वंतरि की प्रतिमा की स्थापना की बधाई दी।

उन्होंने कहा कि पहले बसंत पंचमी पर यहां मां सरस्वती की पूजा होती थी । पूजा के बाद प्रतिमा को गोमती नदी में विसर्जित करना पड़ता था। इससे बचने के लिए यहां एक स्थायी प्रतिमा की आवश्यकता थी जो पूरी हो गई। उन्होंने कहा कि सरकार के प्रयासों से गंगा का पानी अब सिर्फ आचमन ही नहीं बल्कि नहाने योग्य हो गया है।

इसी तरह गोमती नदी की सफाई की जिम्मेदारी भी सभी को निभानी होगी। उन्होनें कहा कि नदियां साफ होंगी तो लोग भी बीमारी से दूर रहेंगे । मुख्यमंत्री ने कहा कि भूजल का स्तर गिरना चिंता का विषय है और लोगों को इसके बारे में सोचना होगा । अगर हालात ऐसे ही रहे तो आने वाले समय में पानी की भारी कमी हो सकती है । लोगों को जल संचय के बारे में भी जागरूक रहना होगा ।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper