LTE और VoLTE में क्या अंतर है, VoLTE का फायदे?

जब से 4जी फोन और सिम आई है तब से दो नाम खूब सुनने को मिले हैं. एक तो LTE और दूसरा VoLTE. आपने भी सुना होगा या फिर अपने मोबाइल में इन दोनों अक्षरों को देखा होगा. अब सवाल ये आता है की 4जी में LTE और VoLTE क्या होते हैं, दोनों में क्या अंतर होता है, दोनों का उपयोग क्यों और कहाँ पर किया जाता है? ये सारी जानकारी एक 4G सिम चलाने वाले व्यक्ति को होना चाहिए. इससे उसे सिम की अच्छी जानकारी रहेगी और वो 4जी सिम को अच्छे से उपयोग कर पाएगा.

LTE क्या है?

LTE का पूरा नाम Long Term Evolution है. इसका सीधा संबंध 4जी नेटवर्क से है. क्योंकि 4जी नेटवर्क के आने से पहले LTE का कोई नाम नहीं था. ये LTE 4जी नेटवर्क को दर्शाने के लिए इस्तेमाल किया जाता है. LTE यानि 4जी CDMA, 2G और 3G से आगे की नेटवर्क जनरेशन है. इस जनरेशन में आपको एक अच्छी इन्टरनेट स्पीड मिलती है. जानकारी के मुताबिक LTE में आपको 100 MBPS की Download Speed और 50 एमबीपीएस की अपलोड स्पीड मिल सकती है. अब इसे देना नेटवर्क कंपनी के हाथ में होता है. अगर आपके पास LTE वाला हैंडसेट और सिम है तो आपको कॉलिंग के लिए भी Internet की जरूरत पड़ेगी. यही इसकी खासियत है.

VoLTE क्या है?

VoLTE का पूरा नाम voice over long term evolution है. VoLTE और LTE में थोड़ा-बहुत अंतर है लेकिन इस अंतर की वजह से दोनों में बहुत फर्क पड़ता है. एक तरफ जहां LTE Network में कॉल करने के लिए आपके पास इन्टरनेट होना चाहिए वहीं VoLTE में कॉल करने के लिए इन्टरनेट की जरूरत नहीं पड़ती. अन्य नेटवर्क पर कॉलिंग के मुक़ाबले VoLTE में काफी अच्छी कॉलिंग होती है और आपकी आवाज भी काफी अच्छी सुनाई देती है.

कैसे चेक करें LTE और VoLTE

अगर आपके पास 4जी सिम है तो वो LTE और VoLTE दोनों पर काम कर सकती है. ये इस बात पर निर्भर करता है की आपका स्मार्टफोन कौन सी सिम को सपोर्ट करता है. मतलब वो LTE को सपोर्ट करता है या फिर VoLTE को. ये जानकारी आपके स्मार्टफोन के डिब्बे पर ही लिखी आती है. आप चाहें तो Online आपके स्मार्टफोन के Specification में चेक कर सकते हैं. जैसे आपका फोन रहेगा वो वैसे ही नेटवर्क बताएगा.

VoLTE का क्या फायदा है?

VoLTE बाकी अन्य सभी Network Technology के मुक़ाबले बेहतर है. अभी तक हम इसे सबसे बेस्ट मान सकते हैं इसलिए इसके कई सारे फायदे भी हैं.

– VoLTE आपको अन्य नेटवर्क के मुक़ाबले बहुत ही बढ़िया या यूं कहें की अब तक की सबसे बेस्ट कॉल क्वालिटी देता है. अगर दो लोग जो कॉल पर बात कर रहे हैं और उनके मोबाइल में VoLTE वाली सिम है तो दोनों अपनी आवाज को एचडी पर सुनते हैं. उन्हें एक दूसरे की आवाज काफी साफ सुनाई देती है. ये 2जी, 3जी के मुक़ाबले काफी ज्यादा बेहतर आवाज देता है.

– 2जी और 3जी नेटवर्क को कनैक्ट होने में काफी ज्यादा समय लगता था. अगर आप किसी ऐसी व्यक्ति को कॉल कर रहे हैं जिसके पास 3जी सिम हो तो उससे आपको Connect होने में समय लगता था. लेकिन 4G to 4G कनैक्ट होने में ज्यादा समय नहीं लगता.

– 4जी नेटवर्क कवरेज के मामले में भी काफी ज्यादा अच्छे होते हैं. वैसे भारत में हर जगह 4जी नेटवर्क है तो सही लेकिन कभी-कभी ऐसा होता है की 4जी नेटवर्क उपलब्ध नहीं हो पाता तब आपकी 4जी सिम 3जी या 2जी का नेटवर्क इस्तेमाल करके आपको नेटवर्क कवरेज के अंदर रखती है और आपकी सिम को चालू रखती है.

– 4जी का इस्तेमाल करने पर आपने पाया होगा की आपकी बैटरी लाइफ पहले के मुक़ाबले काफी ज्यादा बढ़ गई है. इसकी वजह है की जब आप 4जी नेटवर्क का उपयोग करते हैं तो ये अन्य नेटवर्क पर स्विच नहीं करता. वहीं 3जी नेटवर्क में ये बार-बार दूसरे नेटवर्क को तलाशता रहता था. इसे तलाशने में आपके फोन की बैटरी बर्बाद होती थी.

– जब 3जी सिम भारत में लॉंच हुई थी. तब सबसे ज्यादा विडियो कॉलिंग के बारे में सुना गया था. कहा गया था की 3जी सिम की मदद से आप आसानी से विडियो कॉलिंग कर पाएंगे. लेकिन ये इतना कारगर नहीं रहा. इसके बाद जब 4जी सिम आई तब विडियो कॉलिंग आसानी से होने लगी. अब आप VoLTE नेटवर्क से आसानी से अच्छी क्वालिटी की विडियो कॉलिंग कर पाते हैं.

LTE में क्या कमियाँ थी?

LTE में कमियाँ तो कई सारी थी लेकिन कहते हैं न की इंसान अपनी कमियों से ही सीखता है और इसके परिणामस्वरूप ही हमारे पास VoLTE जैसी Technology आई. अब इसकी मदद से हम आसानी से HD calls और fast speed internet चला पाते हैं. बात LTE में कमियों की करें तो LTE में निम्न कमियाँ थी.

– LTE को जब लाया गया था उस समय वो तभी काम कर पाता था जब कॉल करने के पास इन्टरनेट हो और कॉल रिसिव करने वाले के पास LTE वाला फोन हो. अगर ये दोनों नहीं हुए तो फिर कॉल नहीं लग पाती थी. शुरू-शुरू में लोगों को काफी ज्यादा दिक्कतें आई थी लेकिन LTE के VoLTE होते ही सारी दिक्कतें खतम हो गई.

– शुरू-शुरू में कॉल काटने जैसी समस्या बहुत हुई थी. इसका कारण ये था की उस समय 4जी को LTE मोड पर लॉंच तो किया गया लेकिन 4जी के नेटवर्क वाली सिम अपने आप को 3जी या 2जी से कनैक्ट नहीं करती थी. उसे कॉल करने और इन्टरनेट चलाने के लिए सिर्फ और सिर्फ 4जी नेटवर्क ही चाहिए. अब उस समय इतने network देश भर में मौजूद नहीं थे इसलिए कॉल कटने की समस्या ज्यादा होती थी.

अब तो आप समझ ही गए होंगे की LTE और VoLTE में क्या अंतर है. आप इसे ऐसा मान सकते हैं की ये 4जी नेटवर्क की technology है. जिसमें पहले LTE को लॉंच किया गया था. उसमें कुछ दिक्कतें होने पर नए फीचर के साथ अपग्रेड करके VoLTE को लॉंच किया गया. VoLTE में आप अच्छी क्वालिटी (HD) में कॉल और विडियो कॉलिंग कर सकते हैं और हाइ स्पीड इन्टरनेट चला सकते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper