बच्चों के चेहरे पर मुस्कान लौटा रही स्माइल ट्रेन

लखनऊ: स्माइल ट्रेन की ओर से बुधवार को हेल्थ सिटी ट्रॉमा सेंटर ऐंड सुपरस्पेशलिटी हॉस्पिटल गोमतीनगर में महाअष्टमी के पावन अवसर पर भगवती दुर्गा के वात्सल्य स्वरूप को नमन करते हुये एक विशेष समारोह में उन कुछ माताओं जिनकी संताने जन्म से ही कटे होंठ अथवा कटे तालू की बीमारी के चलते प्राकृतिक मुस्कान एवं सौन्दर्य से वंचित थीं उन बच्चों का निःशुल्क उपचार कर पुनः उनके चेहरों पर मुस्कान बिखेरकर उन्हें प्रोत्साहित एवं पुरस्कृत किया गया।

समारोह के मुख्य अतिथि नीरज सिंह, युवा नेता एवं संयोजक भारतीय जनता पार्टी ने अपने सम्बोधन में कहा कि मान्यता स्वरूप बच्चों में ईश्वर का वास होता है और जन्मजात बीमारी से पीड़ित ऐसे बच्चों के चेहरों पर मुस्कान वापस लाना वाकई ईश्वरीय कार्य है। उन्होंने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की अगुवाई में आयुष्मान भारत योजना की परिकल्पना एवं संकल्प को साकार करने की दिशा में स्माइल ट्रेन अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है तथा वे व्यक्तिगत एवं पार्टी स्तर पर स्माइल ट्रेन के अंतर्गत उपलब्ध निःशुल्क उपचार की सुविधा को जन-जन तक पहुंचाने में जिलास्तर से लेकर प्रदेशस्तर एवं देशस्तर तक अपना सहयोग प्रदान करेंगें। कार्यक्रम का आयोजन प्रोजेक्ट मैनेजर वैभव खन्ना द्वारा किया गया।

समारोह में प्रदेश संयोजक-जन सेवाएं, आपदा राहत एवं धर्मार्थ कार्य कुमार अशोक पाण्डेय, विवेक सिंह तोमर, नरेन्द्र देवड़ी (पूर्व पार्षद), अभिषेक श्रीवास्तव, राजीव त्रिपाठी एवं अखिलेश शुक्ला उपस्थित रहे।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper