रक्षाबंधन पर्व पर यूपी में आज से चलेंगी व‍िशेष बसें, मुफ्त सेवा पर अभी चल रहा व‍िचार

लखनऊ: त्योहारों के मद्देनजर परिवहन निगम प्रशासन पहली से छह अगस्त तक विशेष बसें चलाने जा रहा है। रक्षाबंधन विशेष के रूप में पूरे प्रदेश के सभी बस अड्डों से कुल 9,200 बसों का संचालन होगा। इनमें से 3,200 बसें अतिरिक्त सेवाओं के रूप में संचालित होंगी। इस आशय के आदेश प्रबंध निदेशक डॉ. राजशेखर ने क्षेत्रीय प्रबंधकों, सेवा प्रबंधकों एवं एआरएम को जारी कर दिए हैं। यात्री बढ़ने पर रिजर्व की बसों का इस्तेमाल किया जाएगा।

राजधानी लखनऊ समेत पूरे संभाग में सात सौ से अधिक बसों का संचालन होगा। क्षेत्रीय प्रबंधक पल्लव बोस ने बताया कि शहर के चारों बस स्टेशनों से बसें चलाई जाएंगी। रूटवार बस संचालन की तैयारियों को अंतिम रूप दिया जा रहा है। परिवहन निगम प्रबंधन ने यह भी ताकीद दी है कि सीट से अधिक यात्री बसों में नहीं चलेंगे। यानी जितनी बैठने के लिए सीट होगी उतने ही यात्री बस सेवा से जा सकेंगे। संख्या अधिक होने पर यात्री दूसरी बस का इस्तेमाल करेंगे। बसों में सीट के बगल में खडे़ होकर यानी स्टैंडिंग सफर नहीं किया जाएगा।

बकरीद और रक्षाबंधन के त्योहारों को देखते हुए एमडी ने रोडवेज कर्मियों के अवकाश निरस्त कर दिए हैं। इस दौरान अधिकारियों और कर्मचारियों की किसी भी हालत में अवकाश नहीं दिया जाएगा। मुख्यालय स्तर पर यात्रियों की सुविधा के लिये हेल्पलाइन नं0- 18001802877 जारी किया गया है। व्हाटसएप नं0-9415049606 है। वहीं डायल 149 सेवा 24 घंटे कार्यरत रहेगी। इस पर यात्री अपना सुझाव एवं शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

रक्षाबंधन पर मुफ्त बस सेवा संचालन को लेकर अभी फैसला नहीं हो सका है। प्रस्ताव शासन को बनाकर भेज दिया गया है। एक दो दिनों में इस पर निर्णय होने के आसार हैं। क्षेत्रीय/मुख्यालय का चेकिंग दल द्वारा शिफ्टवार मार्ग पर रहकर संचालन व्यवस्था का अनुश्रवण करेगें। यात्री बढ़ने पर बसों की तत्काल उपलब्धता कराएंगे। इसकी मॉनीटरिंग मुख्यालय स्तर से भी नोडल अधिकारी द्वारा की जाएगी। वहीं कोराेना को लेकर जारी की गईं सभी गाइडलाइन संचालन के दौरान मान्य रहेंगी।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper