Maruti Suzuki की मुश्किलें बढ़ी, प्रोडक्‍शन में 25 फीसदी की कटौती

नई दिल्ली: मारुति सुजुकी इंडिया ने वाहन उद्योग में जारी सुस्ती के मद्देनजर जुलाई महीने में उत्पादन में 25.15 प्रतिशत की कटौती की है। यह लगातार छठवां महीना है जब कंपनी ने उत्पादन घटाया है। मारुति सुजुकी इंडिया (MSI) ने बंबई शेयर बाजार को बताया कि उसने जुलाई 2019 में 1,33,625 वाहनों का उत्पादन किया है। एक साल पहले इसी महीने में कंपनी ने 1,78,533 इकाइयों का उत्पादन किया था। पिछले महीने 1,30,541 यात्री वाहनों का उत्पादन किया गया।

जुलाई 2018 में यह आंकड़ा 1,75,456 इकाइयों पर था। इस दौरान, 25.6 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई। ऑल्टो, वैगनआर, सेलेरियो, इग्निस, स्विफ्ट, बलेनो, डिजायर समेत छोटी और कॉम्पैक्ट श्रेणी में जुलाई 2019 में उत्पादन 25 प्रतिशत घटकर 95,733 वाहनों पर रहा। जिप्सी, विटारा ब्रेजा, अर्टिगा और एस-क्रॉस जैसे यूटिलिटी वाहन का उत्पादन 21.26 प्रतिशत घटकर 19,464 इकाइयों पर रहा। इस दौरान, माध्यम आकार की सेडान सियाज का उत्पादन 7,115 इकाइयों से घटकर 3,497 इकाइयों पर आ गया। वहीं, हल्के वाणिज्यिक वाहन सुपर कैरी का उत्पादन भी घटकर 3,077 इकाइयों से 2,724 वाहनों पर आ गया।

छंटनी ने बढ़ाई मुश्किलें!
मारुति सुजुकी के इस संकट का असर कंपनी पर दिखने लगा है। हाल ही में कंपनी ने 1,000 अस्थायी कर्मचारियों की छंटनी कर दी है और नई भर्तियों को रोकने की योजना बनाई है। इसके अलावा कंपनी वर्तमान मंदी से निपटने के लिए कॉस्‍ट कटिंग उपायों की योजना बना रही है। बता दें कि चालू वित्त वर्ष 2019-20 की पहली तिमाही में कंपनी का मुनाफा पिछले साल के मुकाबले 27.3 फीसदी कम रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- -----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper