सुशांत आत्महत्या केस में गरमाई सियासत, बिहार के मंत्री ने रिया चक्रवर्ती को कहा ‘सुपारी किलर’

पटना: बॉलीवुड अभिनेता सुशांत राजपूत के आत्महत्या मामले को लेकर अब सियासत तेज हो गई है। इस बीच, राज्य के एक मंत्री महेश्वर हजारी ने इस मामले में आरोपी रिया को सुपारी किलर और विषकन्या तक बता दिया। मंत्री ने आशंका जताते हुए कहा कि यह आत्महत्या का नहीं बल्कि हत्या का मामला लगता है। उन्होंने कहा कि रिया चक्रवर्ती न सिर्फ सुपारी किलर है बल्कि वह बॉलीवुड की विषकन्या की तरह है, जिसने सुशांत सिंह राजपूत को अपने प्रेमजाल में फंसा कर जान ले ली।

हजारी ने आगे कहा कि रिया चक्रवर्ती विषकन्या की तरह है जिसे साजिश के तहत सुशांत के पास भेजा गया था। उन्होंने कहा कि वह न जाने आगे कितने लोगों की अपनी महत्वकांक्षा को पूरा करने के चक्कर में जान ले लेगी। ऐसी सुपारी किलर पर जल्द से जल्द कार्रवाई हो। उन्होंने कहा कि अब तक कोई जांच मुंबई पुलिस द्वारा नहीं की गई है, केवल लीपापोती की कोशिश है। उन्होंने कहा कि बिहार सरकार अब विधिसम्म्त उच्चसतरीय जांच करवाने पर विचार कर रही है।

उल्लेखनीय है कि पटना के रहने वाले बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह मुबई के बांद्रा स्थित अपने फ्लैट में 14 जून को कथित तौर पर आत्महत्या कर ली थी। इसके बाद सुशांत के पिता के. के. सिंह ने राजीव नगर थाने में 25 जुलाई को एक मामला दर्ज करवाया है, जिसमें उन्होंने सुशंत की दोस्त रिया सहित कई लेागों पर धोखाधड़ी करने और पैसा ठगने का आरोप लगाया है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper