MNC में काम करने वाली कश्मीर की हिना ऐसे बनी ISIS की आतंकी

नई दिल्ली: इसी साल दिल्ली के जामिया इलाके से अपने पति जहानजेब के साथ दिल्ली पुलिस के हाथों गिरफ्तार हुई कश्मीर की रहने वाली हिना बेग की इंटरोगेशन रिपोर्ट आज तक के हाथ लगी है. जिसमें इस बात का पूरा राज छुपा हुआ है कि पुणे यूनिवर्सिटी से एमबीए पास हिना नामी मल्टीनेशनल कंपनी में काम करते-करते आखिर जिहादी कैसे बन गई. जम्मू-कश्मीर की रहने वाली हिना बेग ने कान्वेंट स्कूल से पढ़ाई की, पुणे यूनिवर्सिटी से एमबीए किया और नामी कंपनियों में एक के बाद एक काम किया. हिना बेहद मॉडर्न लड़की थी. लेकिन हिना का इस्लाम के प्रति पहला झुकाव तब हुआ जब साल 2015 में हिना की मुलाकात अपने भाई जुबैर की पत्नी डलिया सचदेवा से हुई जो एक हिन्दू थी.

हिना और डलिया सचदेवा की मुलाकात में इस्लाम पर काफी बातचीत हुई. इसके बाद हिना ने कई इस्लामिक किताबों को पढ़ना शुरू कर दिया. मॉडर्न कपड़े पहनने वाली हिना उसके बाद हिजाब पहनने लगी. अचानक से हिना पूरी तरह बदल चुकी थी. इसके साथ ही हिना ने जाकिर नाइक, साउथ अफ्रीका के मुफ्ती मेंक, मोहम्मद फैज औरंगाबाद के बयान सोशल मीडिया पर लगातार सुनना शुरू कर दिया. इसके अलावा इस्लाम से जुड़ी बातों को जानने और समझने के लिए हिना ने फेसबुक पर ‘स्कॉलर्स ऑफ हक’ पेज को भी जॉइन किया था.

साल 2016 में हिना ने सीरिया और आईएसआईएस के बारे में सुना और गूगल, फेसबुक पर आईएसआईएस के बारे में लगातार सर्च करना शुरू किया और पढ़ने लगी. इस दौरान हिना ने ये पाया कि कश्मीर की तरह सीरिया में भी कई ग्रुप (आतंकी संगठन) आपस में लड़ रहे हैं. हिना ने आईएसआईएस के बारे में इतना पढ़ा कि उसकी फॉलोअर बन चुकी थी. हिना सीरिया, इजरायल और फलस्तीन को लेकर इतने पोस्ट करने लगी थी कि फेसबुक ने उसकी आईडी ‘Hinabeigh’ को डिसेबल कर दिया था.

जानकारी के मुताबिक हिना के इरादे इतने खतरनाक थे कि उसने सिर्फ आईएसआईएस की विचारधारा फैलाने के लिए कश्मीरी मूल के जहानजेब से शादी की थी. साल 2016 में हिना की फेसबुक पर जहानजेब से बातचीत शुरू हुई क्योंकि दोनों ही इस्लाम के सलाफी/वहाबी विचारधारा के मानने वाले हैं और ऐसे ही पेज से जुड़े थे. बाद में हिना ने जहानजेब से शादी सिर्फ इसलिए कर ली क्योंकि वो इस्लामिक स्टेट को फैलाना चाहती थी.

हिना जहानेजब का साथ पाने के बाद और कट्टर हो गई थी. वह सोशल मीडिया पर लगातार कश्मीर और सीरिया को लेकर भड़काने वाले मैसेज करने लगी थी. नतीजा ये हुआ कि सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म टेलीग्राम ने उसकी आईडी डिलीट कर दी. जिसके बाद हिना के पति जहानजेब ने अमेरिका का एक वर्चुअल नंबर जनरेट किया और हिना को दिया, जिसके जरिये हिना ने फिर से टेलीग्राम पर नई आईडी बनाई और लगातार सीरिया में मौजूद आतंकियों के अलावा कट्टरपंथियों से बातचीत करने लगी.

टेलीग्राम पर ही हिना की बातचीत कश्मीर की सादिया से शुरू हुई. सादिया वही महिला थी जिसे कश्मीर में पुलिस ने आतंकी जाकिर मूसा से लिंक होने के आरोप में पकड़ा था. बाद में काउंसलिंग करके उसे छोड़ दिया था. सादिया और हिना लगातार कश्मीर में आईएस का नेटवर्क फैलाने पर बात करते थे. सादिया कश्मीर में आईएसआईएस के हेड वकार से शादी करना चाहती थी. वकार ने जब शादी से इनकार किया तो सादिया आईएसआईएस के विरोध में खड़ी हो गई और अल कायदा से जुड़े कश्मीर में सक्रिय आतंकी संगठन गजवत उल हिंद का समर्थन करने लगी थी.

हिना जानती थी कि उसका पति जहानेजब आईएसआईएस और आईएसकेपी (इस्लामिक स्टेट खुरासान) के आतंकियों के संपर्क में है. जो भारत में मौजूद हैं और सक्रिय हैं. हिना सोशल मीडिया के अलग-अलग प्लेटफॉर्म पर कट्टरपंथियों को तलाशने लगी. उनसे बातचीत करने लगी और उसके बाद उन सभी से संपर्क बनाकर अपने पति जहानजेब से संपर्क करवाने लगी. जहानजेब उन सभी की ब्रेन ट्रेनिंग करने लगा और इस्लामिक स्टेट खुरासान मॉड्यूल के लिए भर्ती करने लगा.

आतंकी बेस तैयार करने के बाद दिल्ली में बड़े हमले की प्लानिंग थी. तभी दिल्ली के जामिया के किराए के मकान से दोनों को दिल्ली पुलिस की स्पेशल सेल द्वारा गिरफ्तार लिया गया. फिलहाल इस मामले की जांच एनआईए कर रही है.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper