Paytm यूजर्स के लिए चेतावनी, ये गलती की तो खाली हो जाएगा आपका बैंक अकाउंट

लखनऊ: ऑनलाइन पेमेंट ऐप Paytm का इस्तेमाल आज के समय में हर कोई इंसान करता है. जब से यह सुविधा शुरू हुई है तब से कई सेवाएं आसान हो गई है. इस पेटीएम के जरिए कई ट्रांसेक्शन के साथ-साथ पेमेंट की कई सुविधाएँ भी सुलभ हो चुकी हैं. लेकिन अब आपके Paytm अकाउंट पर डाका पड़ने का खतरा भी मंडरा रहा है. जी हां, ऑनलाइन धोखधड़ी करने वाले चालबाजों की नजर अब आपके Paytm अकाउंट में पड़े पैसों पर है. Paytm ने खुद एक चेतावनी जारी कर बताया है कि उपभोक्ता कैसे इस धोखाधड़ी से बच सकते हैं.

– Paytm की तरफ से कहा गया है कि यूजर्स अपना KYC कराते वक्त सतर्कता बरतें.
– ऐनीडेस्टक या क्विकसपॉर्ट जैसे ऐप अपने मोबाइल में इस्तेमाल ना करें.
– खासकर KYC कराते वक्त ऐसे ऐप डाउनलोड ना करें.
– ऐनीडेस्टक या क्विकसपॉर्ट एक रिपोट ऐप है जिसके जरिए जालसाज यूजर के अकाउंट से पैसे चुरा लेते हैं.

कंपनी द्वारा पेटीएम में कुछ निर्देश जारी किए गए हैं, जिसमें पेटीएम के एक नोटिफिकेशन ने सभी ग्राहकों को सावधान किया है. हालांकि Paytm से पहले रिजर्व बैंक बैंक ऑफ इंडिया यानी ने भी लोगों को ऐसे ऐप के इस्तेमाल से दूर रहने की सलाह दी थी. इसके अलावा HDFC, ICICI और AXIS जैसे कुछ बैंकों ने भी इन ऐप्स को खतरनाक बताया था.

जालसाजी का तरीका : जालसाज लोगों के खाते से पैसे निकालने के लिए किसी फर्जी बैंक का प्रतिनिधि बनकर लोगों को फोन करते हैं. इसके बाद वो लोगों को उनके बैंक अकाउंट में आई किसी गड़बड़ी के बारे में झूठी बात बताकर उनसे यह ऐप उनके मोबाइल में डाउनलोड कराते हैं. इसके बाद बदमाश लोगों से 9 अंकों वाला वेरिफिकेशन कोड मांगते हैं.

यह वह कोड है जिसके जरिए धोखेबाज आपके डिवाइस को अपने घर से बैठे मॉनिटर करते हैं. इस ऐप के जरिए वो आपके मोबाइल डाटा को ना सिर्फ लीक करते हैं बल्कि ऐप के डाउनलोड करने के बाद जब भी ग्राहक मोबाइल बैंकिंग, पेटीएम या UPI से पेमेंट करते हैं, तो उनके लॉगइन डीटेल को ये जालसाज बड़ी आसानी से चुरा लेते हैं.

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper