PUBG की लत ने बेटे को बनाया हत्यारा, गेम खेलने से रोकने पर पिता के किए टुकड़े-टुकड़े

बेंगलुरु: पबजी गेम का क्रेज युवकों में तेजी से बढ़ता जा रहा है और इस कारण कई लोगों में यह खतरनाक रूप लेती जा रही है। ताजा मामला कर्नाटक के बेलागवी जिले में सामने आया हैं। यहां एक 25 वर्षीय युवक ने पबजी गेम खेलने से रोकने पर पिता को मौत के घाट उतार दिया। ये घटना सिद्धेश्वर नगर काकटी की है। इस घटना को सुबह 5 बजे अंजाम दिया गया।

जानकारी के अनुसार, रघुवीर कुंभार की कथित तौर पर पबजी खेलने को लेकर अपने पिता के साथ लड़ाई हुई थी। उनके पिता की पहचान 65 साल के शंकरप्पा कुंभार के रूप में हुई, जो एक रिटायर्ड पुलिसकर्मी थे। रविवार को दोनों के बीच गेम खेलने को लेकर बहस हुई और फिर उसके बाद रघुवीर ने अपने पिता पर हमला किया। उसने ये हमला उनके सिर और पैर पर किया और उनके शरीर के टुकड़े-टुकड़े कर दिए। जिसमें उनकी जान चली गई। ये सब उसने इसलिए किया ताकि वो शांति से अपने मोबाइल फोन पर पबजी गेम खेल सके।

बेलागवी पुलिस के अनुसार, ‘रघुवीर का फोन छीनने पर और पबजी गेम ना खेलने देने पर उसकी अपने पिता से बुरी तरह से झड़प हो गई थी। इसी दौरान उसने अपने पिता शंकर की हत्या कर दी।’ पुलिस के आगे बताया, ‘जब रघुवीर ने अपने पिता पर हमला किया, उस समय शंकर घर में बैठा हुआ था। उसने परिवार के दूसरे सदस्यों को एक कमरे में बंद कर दिया था। उसने अपने पिता को टुकड़ों में काट दिया।’ मामले पर कार्रवाई करते हुए पुलिस ने बेटे को गिरफ्तार कर लिया है। आगे की जांच चल रही है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper