चॉकलेट खाएं पर जरा संभलकर

अगर आप या आपका बच्चा चॉकलेट खाने का बहुत शौकीन है तो सावधान होने की जरूरत है। ज्यादा चॉकलेट स्वास्थ्य के लिए हानिकारक हो सकती है। छोटे बच्चे खानपान के जरिए जो शुगर लेते हैं, उसकी आधी मात्रा सेहत के लिए नुकसानदेह माने जाने वाले स्नैक्स और ड्रिंक्स के जरिए शरीर में पहुंचती है। इस बारे में जुटाए गए आंकड़ों में यह सच्चाई सामने आई है।

पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड (पीएचई) के मुताबिक, प्राइमरी स्कूल के छात्र औसतन एक दिन में कम से कम तीन मीठी चीजें खाते हैं। इसका मतलब यह हुआ कि बच्चे जरूरत से तीन गुना ज्यादा चीनी की मात्रा का सेवन करते हैं। चॉकलेट भी बच्चे रोज खाते हैं, जो उन्हें काफी नुकसान करती है। यही वजह है कि पीएचई ने एक अभियान की शुरुआत की है, जिसका मकसद बच्चों के मां-बाप को ऐसे स्नैक्स के बारे में जानकारी देना है, जिनमें 1०० से ज्यादा कैलोरी न हो और एक दिन में बच्चे इसका सेवन दो बार से ज्यादा न करे।

पीएचई के नेशनल डाइट एंड न्यूट्रिशियन सर्वे में पाया गया है कि 4 से 1० साल के बच्चे सेहत के लिए हानिकारक स्नेक्स खाने से लगभग 51.2 प्रतिशत शुगर लेते हैं। इनमें बिस्कुट, चॉकलेट, केक, पेस्ट्री, बन्स, स्वीट्स और जूस ड्रिंक्स शामिल होते हैं। आंकड़े बताते हैं कि हर साल एक बच्चा औसतन 4०० बिस्किट, 12० केक, बन और पेस्ट्री, मिठाइयों के 1०० टुकड़े, 7० चॉकलेट, आइसक्रीम और 15० जूस ड्रिंक्स के पाउच खाते-पीते हैं। दांत खराब होना और ज्यादा मोटे होने की एक वजह ज्यादा मात्रा में शुगर लेना भी है।

किसमें कितनी कैलोरी
1 आइसक्रीम- 175 कैलोरी
1 पैकेट चिप्स- 19० कैलोरी
1 चॉकलेट बार- 2०० कैलोरी
1 पेस्ट्री- 27० कैलोरी

बच्चे यह खाएं तो रहेंगे स्वस्थ
सेब, केला, स्ट्रॉबेरी, रसभरी, ताजा फल, ताजा फलों का रस, कटी हुई सब्जियां, भीगे छोले, बिना शुगर की जैली, पनीर (कम वसा वाला), सादा चावल।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper