अमेरिका और उत्तरी कोरिया के बीच तनाव की आशंकाएं

वॉशिंगटन: अमेरिका का आणविक मिसाइलों को ध्वंस करने वाला विनाशकारी नौसेना जहाज ‘यू एसएस मिल्लुस’ मंगलवार को इंडो-पैसिफिक महासागर में जापान के योकासुका बेस शिविर में पहुंच चुका है। इस विनाशकारी जहाज में हवा में दुश्मनों की आणविक मिसाइलों का विध्वंस करने की क्षमता बताई जा रही है। इससे उत्तर कोरिया और अमेरिका के बीच तनाव की आशंकाएं और बढ़ गई हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, अमेरिका और दक्षिण कोरियाई लड़ाकू विमानों की संयुक्त मिलिट्री ड्रिल के बाद इस विनाशकारी जहाज के जापानी समुद्र तट पर पहुंचने को समसामयिक बताया जा रहा है। इसके पीछे एक और कारण यह भी बताया जा रहा है कि 12 जून की प्रस्तावित सिंगापुर शिखर वार्ता के आगे टल जाने के बाद दोनों देशों के बीच संबंध कड़वाहट भरे होते जा रहे हैं। इसे मित्र देशों जापान और दक्षिण कोरिया की सुरक्षा के लिए अहम माना जा रहा है।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- --------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper