UTTAR PRADESH: कोरोना का खतरा लेकर यूपी पहुंच रहे मजदूर, अब तक 1200 से ज़्यादा पाए गए पॉजिटिव

लखनऊ: देश के विभिन्न हिस्सों से अब तक 12 लाख से अधिक कामगार मजदूर उत्तर प्रदेश लौट चुके हैं। घर पहुंच कर जहां ये मजदूर खुशी का अनुभव कर रहे हैं, वहीं यूपी सरकार की चिंता बढ़ती जा रही है। कारण, प्रवासी मजदूरों के आने के साथ ही प्रदेश में कोरोना संक्रमण की समस्या कई गुना ज्यादा बड़ी होती हुई दिखाई दे रही है। उत्तर प्रदेश सरकार का कहना है कि अब तक 1200 से ज्यादा प्रवासी मजदूरों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है।

स्थानीय जिलों के स्वास्थ्य अधिकारी मानते हैं कि प्रवासी मजदूरों की वजह से लगातार चुनौतियां बढ़ रही हैं। लखनऊ के जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश ने कहा, “राजधानी लखनऊ में अब तक 30 से ज़्यादा कोरोना पॉजिटिव केस प्रवासी कामगार मज़दूर के रूप में मिले हैं। अभी यह संख्या और ज्यादा हो सकती है लेकिन इनमें से ज़्यादातर लखनऊ ज़िले के नहीं हैं।”

उत्तर प्रदेश के अन्य जिलों के स्वास्थ्य अधिकारियों के माथे पर भी चिंता की लकीरें साफ दिखाई देती हैं। स्वास्थ्य विभाग का आंकड़ा तैयार करने वाली एजेंसी का मानना है कि अब तक जिन जिलों में आए कामगार मज़दूरों में कोरोना संक्रमण मिला है, ब्यौरा तैयार किया जा रहा है।

Covid-19: दूधवाले की चौंका देने वाली हरकत कैमरे में कैद, आप भी जान लें, सता रहा कोरोना संक्रमण का डर

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper