वे पांच वनडे मैच जो कैप्टन कूल धोनी के नेतृत्व में रहे टाई

एशिया कप के तहत दुबई में मंगलवार को भारत और अफगानिस्तान के बीच हुए मैच में भारतीय टीम की कप्तानी एमएस धोनी ने की थी, क्योंकि रोहित शर्मा को अवकाश दिया गया था। धोनी की कप्तानी में भारत का यह 2००वां मैच था, जिसमें अफगानिस्तान और भारत दोनों ने हो 252 रन बनाये। आखिरी ओवर की शेष दो गेंदों में भारत को 2 रन चाहिए थे, लेकिन आखिरी बल्लेबाज जडेजा आउट हो गये। लिहाजा रिजल्ट टाई रहा। इससे पहले कैप्टन कूल के नेतृत्व में चार और वनडे मैच टाई रहे। आइए जानते हैं इस बारे में।
27 फरवरी, 2०11: बेंगलुरु में वर्ल्ड कप का मुकाबला था। भारत ने सचिन तेंडुलकर (12०) के शतक की बदौलत 49.5 ओवर में सभी विकेट खोकर 338 रन बनाए थे। जवाब में इंग्लैंड की टीम भी 8 विकेट पर 338 रन ही बना सकी। आखिरी ओवर में इंग्लैंड को 14 रन बनाये थे। ओवर डाला था मुनाफ पटेल ने जिन्होंने 13 रन दिये थे।
11 सितंबर, 2०11: इंग्लैंड दौरे पर भारतीय टीम थी। चौथे वनडे में भारतीय टीम ने धोनी के नाबाद 78 और सुरेश रैना के 84 रनों की बदौलत 5 विकेट पर 28० रन बनाए थे। इंग्लैंड की पारी का 49वां ओवर चल रहा था तभी बारिश आ गई। मैच जब रुका तब इंग्लैंड की टीम 48.5 ओवर में 8 विकेट पर 27० रन बनाकर खेल रही थी। इसके बाद मैच शुरू ही नहीं हो सका। आखिर में डकवर्थ लुईस नियम के तहत मैच को टाई घोषित कर दिया गया।
14 फरवरी, 2०12 : कॉमनवेल्थ बैंक सीरीज के दौरान भारत और श्रीलंका के बीच यह मैच एडिलेड (ऑस्ट्रेलिया) में खेला गया था। श्रीलंका की टीम ने 9 विकेट पर 236 रन बनाए। भारतीय टीम भी 9 विकेट पर 236 रन ही बना सकी। ओवर की आखिरी गेंद पर जीत के लिए भारत चाहिए थे 4 रन, लेकिन धोनी 3 रन ही बना पाए।
25 जनवरी, 2०14: ऑकलैंड में न्यूजीलैंड ने मार्टिन गप्टिल (111) के शतक की मदद से सभी विकेट खोकर 314 रन बनाए। भारतीय टीम 9 विकेट पर 314 रन ही बना सकी। भारत को आखिरी ओवर की आखिरी गेंद पर दो रन चाहिए थे, लेकिन रवींद्ग जडेजा सिर्फ 1 रन ही बना सके।

नोट: अगर आपको यह खबर पसंद आई तो इसे शेयर करना न भूलें, देश-विदेश से जुड़ी ताजा अपडेट पाने के लिए कृपया The Lucknow Tribune के  Facebook  पेज को Like व Twitter पर Follow करना न भूलें...
Loading...
-------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ---------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------- ----------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------
E-Paper